नैन और बैन मा बैर बडो

0
152

नैन और बैन मा बैर बड़ो

लै अंजुरी मा अबीर चली
अलबेली छबीली अजब ब्रजनारी
मोतियन मांग संवार लई
अखियॉं मदमावें ज्यों भंग की प्याली
कंचुकि बांध लई उरमा
सरमाय रही छावै मुख पर लाली
झांझर की झनकार लगें
मानौ नृत्य करे पिय के संग आली
राह मिले बनवारी अनारी
तो बाने पकड लई अंग की सारी
छोडो लला न करो बरजोरी
है लागत लाज करो ना ठिठोली
रंग अबीर का पोत दिया सब
लागे कहन गोरी आज है होरी
नैन और बैन में बैर बड़ो
एक दूजे पै चोट करे हैं करारी
नैन कहें पिय भावत हैं
और बैन कहें है बडे ही अनारी
लै अंजुरी मां अबीर चली
प्रेमा शुक्ल, अकोला
9922516096

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here